Monday 22 December 2008

इस शहर में हर सख्श परेशान सा क्यों है.......

26 नवंबर को मुंबई पर हुए आतंकवादी हमले के बाद गोवा सरकार ने नए साल के जश्न पर रोक लगा दी है। यह फैसला गोवा के मुख्यमंत्री ने पूरी सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेने के बाद की है। मुख्यमंत्री दिगंबर कामत ने कहा कि गोवा बीच या गोवा के होटलों में होने वाली पार्टियां या किसी भी प्रकार का जश्न आतंकीगतिविधियों को देखते हुए नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि 23 दिसंबर से लेकर 5 जनवरी 2009 तक के बीच किसी भी प्रकार की पार्टीबाजी या कोई भी जश्न नहीं मनाया जाएगा।गोव एक पर्यटन स्थल है इस प्रकार से सरकार द्वारा इस पैसले के बाद अर्थव्यवस्था पर काफी बुरा असर पड़ सकता है क्योंकि बड़ी संख्या में सैलानी यहां आकर नए साल का जश्न पूरे उमंग और उत्साह के साथ मनाते हैं। इस फैसले ने साबित कर दिया की आतंक वाद के सामने हम कितने पंगु हैं...कल ये भी हो सकता है की आपको कहा जाए की आतंकवादी के डर से आप शहर से बाहर न जाए....और ये सोचिये की इस शहर में हर सख्श परेशान सा क्यों है.......

2 comments:

राजीव करूणानिधि said...

आतंकी हमारे बीच इस कदर पैठ बना चूका है कि कभी भी कहीं भी कोई भी अनहोनी हो सकती है. सोई सरकार की नींद अभी खुली है, इसलिए तैयारी में थोडा वक़्त तो लगेगा. आतंकिओं के सफाया होने से पहले आपके किसी हितैशिओं को चोट न आये इसलिए सरकार ने ऐसे शख्त कदम उठाये. आपसे सरकार के हालात छुपे तो है नहीं, निकम्मी सरकार को मौका देने और इंतज़ार करने के अलावे और दुसरे रास्ते भी तो नहीं है हमारे पास.

BrijmohanShrivastava said...

नव वर्ष के आगमन पर मेरी ओर से शुभकामनाएं स्वीकार कर अनुग्रहीत करें