Friday 23 September 2011

इतने गुस्से में क्यों हो भाई.....

राष्ट्रीय राजमार्ग आठ स्थित खेडकीदौला टोल टैक्स प्लाजा पर २३ सितम्बर की रात 12 बजे टोल भुगतान को लेकर बोलरो चालक ने टोलकर्मी को गोली मार दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायल टोलकर्मी को अस्पताल में लेकर गई जहां डॉक्टरों उसे मृत घोषित कर दिया। सीसीटीवी फुटेज में वारदात रिकॉर्ड हो गई लेकिन गाडी का नंबर और हमलावर की फोटा नहीं आई। हमलावर ने टोल के बदले में आईकार्ड जैसी काई वस्तु दिखाई थी। बताया जाता है कि टोल मांगने को लेकर चालक व टोलकर्मी में विवाद हुआ था। टोल स्थित कैबिम में लगे सीसीटीवी कैमरे में घटनाक्रम की तस्वीरें कैद हुई हैं। जानकारी के अनुसार मध्यप्रदेश के रीवा के निवासी अमेश कांत पांडे(23) गुरूवार रात राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या आठ पर मानेसर की ओर जाने वाली ग्यारह नंबर लेन में अपनी कैबिम में बैठकर टोल वसूल कर रहा था। अन्य टोल लेन में काम कर रहे कर्मचारियों के अनुसार करीब बारह बजे बोलरो कार में सवार एक युवक आया। उमेश के टोल मांगने पर कहासुनी हो गई। सीसीटीवी कैमरे की फुटेज के अनुसार इस दौरान बोलेरो चालक ने उमेश आईडी जैसे की वस्तु दिखाई और छूट की बात कही। दस्तावेज दिखाने के बाद भी जब उमेश ने टोल काटना चाहा तो बोलेरो चालक ने गुस्से में आकर उमेश पर गोली चला दी और मौके से वाहन समेत फरार हो गया। उमेश घायल होकर केबिन से नीचे गिरा तब टोल पर तैनात अन्य कर्मचारियों को इसका पता चला।
यह पहली ऐसी घटना नही है जब कोई रसूख वाले किसी आदमी ने किसी की जान ली हो. आये दिन सड़कों पर ऐसी घटनाये होती रहती हैं. जब कोई अपना पहुच और रुतबे के कोई चूर आदमी किसी आम आदमी की जान ले लेता है. बाद के कानून भी ऐसे लोगों को जमानत पर छोड़ देती है. जान लेना कितना आसान है इन लोगों के लिए. एक छोटी सी बात पर किसी की जान ले लेना इनके लिए कोई बड़ी बात नही. जेस्सिका लाल मर्डर केस के भी यही हुआ था.
इन तथाकथिक लोगों को इतनी हिम्मत कहा से आती है जो ये किसी की ज़िन्दगी भी खतम करने से पहले कुछ नही सोचते. कौन हैं ये ज्यादा गुस्से वाले लोग ?
सच ही कहा गया है की गुस्सा एक इंसान को शैतान बना देता है....

1 comment:

Prabhat said...

the insensitivity in the human life is a fact now. We are living in an age of Rage. Sometimes a four letter word SORRY can prevent us from many unpleasant experiences. the killers are not yet nabbed. Its only because of the policy by the toll collection company to install cameras at a position wherein they can monitor the transactions not the motorist. We are sorry for Umesh and want justice without any Delay.....