Friday 21 December 2007

बेचारी सीबीआई..........


जसवीर सिंह फ़ोन पर बात कर रहे है...वह भी एक न्यूज़ चैनल पर....पूरा हिंदुस्तान इस हकीक़त को सुन और देख रहा है....लेकिन इस देश की तथाकथित संस्था सीबीआई को न जाने क्या हो गया है, उसने तो अदालत को जसवीर सिंह के बारे में कहा की वे लापता हैं...

३ हजार लोगों को सरेआम काट डाला जाता है, आज से २३ साल पहले इसी दिल्ली में, इस खून खराबें में शामिल एक शख्श को सजा दिलाने के लिए जसवीर सिंह की गवाही ज़रूरी है लेकिन सीबीआई जैसी संस्था को जसवीर नहीं मिलते, अमेरिका में वो कहा रह रहें हैं उस जगह का पूरा पता २० दिसम्बर के हिंदुस्तान दैनिक में था...

आख़िर सीबीआई को क्या हो गया जो काम एक पत्रकार ने कर दिया वो सीबीआई से क्यों नहीं हुआ? ये सवाल मेरे जेहन में बार बार कौंधता है....कही सीबीआई भी हमारे पुलिस वालों की तरह तो नहीं हो गयी?

सीबीआई ने बडे बडे शूरमाओं को सजा दिलाई है...सीबीआई ने कई महत्वपूर्ण मामलों को सुल्ताया है....जहाँ पुलिस और राज्य सरकारें फ़ैल हो जाती है वहाँ सीबीआई काम आती है....लेकिन इस बार सीबीआई को क्या हो गया कि इतने लोगों के मौत के मामलें को इतने हलके तरीके से लिया?

अगर सीबीआई ने इस मामले में गंभीरता लेकर दोषियों को सजा नहीं दिलाई तो लोगों का इस निष्पक्ष संस्था पर से विश्वास उठ जाएगा....

No comments: