Friday 8 August 2008

डर को बेचने वाले


शनि, एलियंस, साईं और न जाने क्या क्या.......कुछ चैनलों ने लोगों के सही नब्ज को पकड़ लिया है. वे जानते हैं की पब्लिक को क्या चाहिए. ये पब्लिक केवल डर वाली चीजे पसंद करती है...डरो और बेचो. डरकर देखेंगे....लेकिन देखेंगे तो. पब्लिक बोरिंग चीजे देख देख कर थक चुकी है. अब इन्हे चाहिए कुछ रियल और रियल लाइफ में तो कदम कदम पर डर है. हर कोई डरा हुआ है....तो भइया अब चैनलों ने कसम खा लिया है की ये पब्लिक को डरा के कमाएंगे...लेकिन इतिहास गवाह है की कोई भी फार्मूला ज़्यादा दिनों तक नही चलता..जो अभी बिक रहा है वो ज़रूरी नही है की एक महीने बाद भी बिक ही जाए......लेकिन इस फोर्मुले को भी फ़ैल कर दिया है सबके चहेते इंडिया टीवी ने.....जब से ये चैनल आया है तब से टीवी न्यूज़ में नयी करांति आ गयी है.... दर्शकों ने ज़्यादा टीवी देखनी शुरू कर दी है...उन्हें साईं के करिश्मे खूब भा रहे हैं. उन्हें शनि देव पसंद आ रहे हैं...उन्हें सितारों की दुनिया पसंद है..ये चैनल न्यूज़ चैनल होने की ज़िम्मेदारी निभाने की खातिर एकाद बार हेड लाइंस बता देता है और इसके बाद अपने काम पर लग जाता है...मैंने कई लोगों को कहते सुना है की ये चैनल लोगों को मुर्ख बनता है....लेकिन भइया ये तो बताइए की टी आर पी में नम्बर १ कैसे है?

No comments: